Posts

1857 की क्रांति और सावरकर के विचार!

Image
 आज के दौर में इतिहास के सबसे विवादित व्यक्ति विनायक दामोदर सावरकर के विचारों पर मंथन करने की अति आवश्यकता महसूस होती है। जिस प्रकार गांधी, पटेल, भगत सिंह के विचारों को राजनीतिक दालों ने अपने हित के अनुकूल तोड़ा मरोड़ा हैं इतना ही अनुचित भाव और तरीके से सावरकर के विचारों को भी तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया। इसीलिए आज हम बात करते हैं विनायक दामोदर सावरकर कालापानी जाने से पहले कैसे विचार रखते थे। 'विनायक दामोदर सावरकर' ने अपने जीवन में कई किताबें लिखी इनमे से एक है '1857 का स्वतंत्र समर' जो की उन्होंने 1909 में लिखी। इस किताब के बारे में जानने के लिए पढ़े विनायक दामोदर सावरकर की किताब जो रही 38 साल तक प्रतिबंधित इस पुस्तक में सावरकर अवध के नवाब के एक आज्ञा पत्र को केन्द्रित कर लिखते हैं कि नवाब ने कहा - हिन्दुस्तान के हिन्दुओं और मुसलामानों, उठो! स्वदेश बंधुओं, परमेश्वर की दी हुई सौगात में सबसे श्रेष्ठ सौगात स्वराज्य ही है। यह ईश्वरीय सौगात जिसने हमसे छल से छीन ली है उस अत्याचारी राक्षस को बहुत दिन पचेगी क्या? यह ईश्वरीय इच्छा के विरुद्ध किया गया कृत्य क्या जय प्

वह राजा जिसे अंग्रेजों से मिलती थी 8 लाख रुपये पेंशन!

Image
भारत के इतिहास में कई राजा राजवाङे हुए। इनमे से कुछ ने अंग्रेजों की अधीनता स्वीकारी और ग़ुलामी की बेड़ियों में खुद को बांध दिया और अंग्रेजो से पेंशन स्वीकार की जबकि कुछ ने आजाद रहने की बात कही और अंग्रेजो के खिलाफ लड़ाई लड़ी। अंग्रेजों की अधीनता स्वीकार कर ग़ुलामी स्वीकारने वालों में एक नाम आता है पुणे रियासत का जिसके पहले पेशवा बालाजी विश्वनाथ थे और अंतिम पेशवा श्रीमंत नाना साहब। नाना साहब का नाम किसने नहीं सुना होगा। ये वही नाना साहब थे जिन्होंने महारानी लक्ष्मी बाई को अपनी छोटी बहन की भांति मानकर अस्त्र-शस्त्र और घुड़सवारी की शिक्षा दी थी। नाना साहब के पिता पेशवा बाजीराव के कोई सन्तान नहीं थीं इसीलिये उन्होंने नाना साहब को ढाई साल की उम्र में दत्तक (गोद लेना) स्वीकारा था। जब देश की छोटी बड़ी सभी रियासतें अंग्रेजों से संघर्ष कर रही थी लड़ रही थी। तब सन 1818 में पेशवा बाजीराव नें अंग्रेजों की अधीनता स्वीकार कर ना सिर्फ पैंशन स्वीकार की जबकि दुसरी रियासतों को गिराने में अंग्रेजो का भरपूर सहयोग किया। जब अफगानिस्तान की लड़ाई में अंग्रेजों को धन की कमी पड़ी तब बाजीराव ने अपनी

और कितनी निर्भया???

Image
यह समाज आज पुरी तरह सड़ चुका है। मर तो बहुत पहले ही गया था मगर अब इस इस समाज का मुर्दा सड़ने लगा है। आज चारों ओर इस सड़न की बू फैली हुई है। यह बू एक महामारी की तरह फैल रही है जो हर किसी को संक्रमित करती जा रही है।  इस सड़न से फैल रहे संक्रमण से कोई विरला ही अछूता रहा होगा। जो स्वयं को इस भयानक संक्रमण से बचा सका हो। जिसने आज भी सम्वेदनशीलता, इंसानियत, सहिष्णुता न खोई हो। जिसकी आत्मा आज भी जागृत हो ऐसा मनुष्य इस समाज में खोजने पर भी मिलना असंभव सा प्रतीत होता है। अनपढ़ गँवारों से लेकर पढ़े-लिखे बुद्धिजीवियों तक किसी में वह भावनात्मकता, शालीनता, सम्वेदनशीलता नजर नहीं आती। आज के पढ़े लिखे वर्ग से तो अनपढ़ वर्ग कई मायनों में बेहतर नजर आता है, अनपढ़ होते हुए भी कुछ मायनों में शिक्षित नजर आता है। मुख्यतः पढ़े-लिखे दो प्रकार के होते हैं, एक होते हैं साक्षर और दूसरे होते हैं शिक्षित। आज साक्षर तो इस देश की लगभग 85 प्रतिशत आबादी होगी किन्तु शिक्षित 1 प्रतिशत भी नहीं यही इस डेढ़ सौ करोड़ की आबादी वाले देश का दुर्भाग्य हैं।  यहाँ शिक्षित होने का अर्थ बड़े-बड़े विश्वविद्यालयों से सिर्फ उपाधियाँ प्

विनायक दामोदर सावरकर की किताब जो रही 38 साल तक प्रतिबंधित - पंकज (नीलोफ़र)

Image
"1857 का स्वातंत्र्य समर" सन् 1909 में मराठी भाषा में प्रकाशित 'विनायक दामोदर सावरकर' द्वारा लिखित यह किताब जो 1909 में अपने प्रथम संस्करण के प्रकाशित होने के बाद से 1947 तक अंग्रेजी सरकार द्वारा प्रतिबंधित रहीं। लेकिन भारत से लेकर विदेशों तक इसकी इतनी माँग रही कि 38 वर्षों के लंबे प्रतिबंध के बावजूद, अनेकों भाषाओं में इसका गुप्त रूप से बार - बार प्रकाशन होता रहा।  यह किताब 1857 में हुई क्रांति के दृश्यों को जीवंत कर आपके दिल-दिमाग़ को हर पन्ने पर रोमांचित कर देती है। इस किताब में 1857 में हुई क्रांति के कारणों को तथा उसमें उस समय के राजाओं, सैनिकों, नवाबों, पण्डितों, मौलवियों आदि के द्वारा उठाए गए कदमों और  उनके द्वारा किए गए प्रयासों का बहुत बारीकी से विश्लेषण किया गया है। चाहे वह दिल्ली, मगध, पुणे, सतारा या ब्रह्मावद का अंग्रेजी हुकुमत में ज़बर्दस्ती अधिग्रहण हों या झाँसी जैसे स्वाभिमानी राज्य पर जबरन अधिग्रहण करने की कोशिश या फिर हिन्दुस्तानी सैनिकों को दिये जाने वाले कारतूसों में गाय और सुअर की चर्बी का उपयोग कर उनका धर्म भ्रष्ट करने की कोशिश। इस किता

कहीं आप भी स्वामी राम की भाँति अज्ञानी तो नहीं!

स्वामी राम अभी अभी सन्यासी हुए थे और कुछ उपनिषदों का अध्ययन कर नए आने वाले सन्यास साधकों को उपनिषदों की शिक्षा दिया करते थे। एक दिन स्वामी जी को आभास हुआ कि उन्हें अपने ज्ञान का अहंकार हो गया है। वे स्वयं को ज्ञानी एवं सर्वश्रेष्ठ समझने लगे हैं। उन्हें लगने लगा कि बौद्धिक स्तर पर उनसे बड़ा कोई विद्वान नहीं है। इसीसे परेशान हो कर वे अपने गुरु जी के पास गये और उन्हें अपने अहंकारी होने का भाव बताया।  पहले तो गुरू जी ने हँसते हुये कहा कि तुम मदमस्त हो गए हो। परन्तु कुछ देर बाद बोले अभी तुम उस बच्चें की भाँति हो जो विद्यालय तो जाता है किन्तु अभ्यास नहीं करता । तुम्हें चार वस्तुओं पर अधिकार प्राप्त करना है परमात्मा को जानने और उनसे मिलने की इच्छा रखो किन्तु स्वार्थी न बनो। क्रोध, लोभ एवं आसक्ति को त्याग दो और ध्यान करने का अभ्यास करो। इन चारो पर स्वामित्व प्राप्त कर लेने के बाद ही तुम कुछ प्राप्त कर सकते हो। इन चारो का समग्र अभ्यास करने के बाद तुम पूर्णत्व पा सकोगे। इसके बाद गुरुदेव ने स्वामी जी को कुछ सन्तों की सूची देते हुए उनसे मिलने को कहा। उन्होंने कहा संतों के साथ नम्रता से रहना। दुराग

गाँधी, नेहरू और अम्बेडकर ने बेरीस्टर होते हुए भी नहीं लड़ा भगत सिंह का मुकदमा?

Image
 जैसे कि आजकल सोशल मीडिया का ज़माना है और आपको रोज़ कुछ नयी, रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी आसानी से मिल जाती है और इसी ज्ञान के बलबूते आजकल हर कोई अपने आपमें एक पीएचडी होल्डर हैं। लेकिन क्या आप इन जानकारियों की विश्वसनीयता के बारे में ज़रा भी सोचते विचारते है और अगर नहीं तो जरा सोचा करे और इसकी सत्यता को जाँचने की कोशिश अवश्य किया करें। कोई भी ख़बर आपको सोशल मीडिया के माध्यम से प्राप्त हुई हो चाहे वह आपकी विचारधारा के अनुसार आपको पूरी तरह गलत लगे या पूरी तरह सही लगे एक बार उसकी सच्चाई जानने की कोशिश जरूर करें। तो आइये आज हम बात करतें हैं गाँधी, नेहरू और अम्बेडकर ने बेरीस्टर होते हुए भी क्यों नहीं लड़ा भगत सिंह का मुकदमा?  इसके लिए हम सबसे पहले बात करते हैं भगतसिंह के जीवन की।  भगत सिंह का जन्म  सितंबर 1907 में पंजाब के लायलपुर जिले के बंगा गाँव में हुआ था जो अब पाकिस्तान में आता है। 1919 में जब जलियांवाला बाग हत्याकांड हुआ उस समय भगत सिंह की उम्र 12 वर्ष थीं। इस हत्याकांड की खबर सुनते ही वह स्कूल से भागते हुए सीधे जलियांवाला बाग़ पहुचें थे। जहाँ सेंकड़ों लोगों को मरा हुआ देखकर

विद्यार्थियों के नाम जैल से भगत सिंह का पत्र।

Image
भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त की ओर से जैल से भेजा गया यह पत्र 19 अक्तूबर 1929 को पंजाब छात्र संघ लाहौर के दूसरे अधिवेशन में पढ़कर सुनाया गया था। अधिवेशन के सभापति नेताजी सुभाषचंद्र बोस थे। जो 22 अक्तूबर, 1929 को 'द ट्रिब्यून' नामक अखबार में प्रकाशित हुआ था। इस पत्र में वे लिखते हैं, इस समय हम नौजवानों से यह नहीं कह सकते कि वे बम और पिस्तौल उठाएं। आज विद्यार्थियों के सामने इससे भी अधिक महत्वपूर्ण काम है। आने वाले लाहौर अधिवेशन में कांग्रेस देश की आजादी के लिए जबरदस्त लड़ाई की घोषणा करने वाली है। राष्ट्रीय इतिहास के इन कठिन क्षणों में नौजवानों के कंधों पर बहुत बड़ी जिम्मेदारी आ पड़ी है।  क्या परिक्षा की इस घड़ी में वे उसी प्रकार की दृढ़ता और आत्मविश्वास का परिचय देने से हिचकिचाएँगे? नौजवानों को क्रांति का संदेश देश के कोने-कोने में पहुँचाना है। फैक्टरी, कारखानों के क्षेत्रों में, गंदी बस्तियों और गांवों की जर्जर झोपड़ियों में रहने वाले करोड़ों लोगों में इस क्रांति की अलख जगानी है, जिससे आजादी आएगी और तब एक मनुष्य द्वारा दूसरे मनुष्य का शोषण अंसकद हो जाएगा। आज देश के प्र

आपको कोई अधिकार नहीं भगत सिंह का नाम लेने का!

Image
जैसा कि आपने इस लेख के शीर्षक में पढ़ा आपको कोई अधिकार नहीं है भगत सिंह का नाम तक लेने का। अगर आप भगत सिंह को सिर्फ इसलिए जानते या मानते हैं क्यों कि वो देश को आजाद कराने के लिए हँसते हुए फाँसी के फंदे पर झूल गए थे। या इसलिए कि उन्होंने ब्रिटिश अधिकारी सौंडर्स की हत्या की थी या इसलिए  क्यों कि उन्होंने असेम्बली में बम विस्फोट कर खुद की गिरफ़्तारी दी थी तो जी हाँ आपको कोई अधिकार नहीं है कि आप भगत सिंह का नाम ले और बड़ी बड़ी बाते करें। इस लेख को आगे पढ़ने पर हो सकता है आपको अपने आप पर शर्मिंदगी महसुस हो या आप लेखक को कोसे या आप भगत सिंह को मानना ही छोड़ दें। आज आप जिस भगत सिंह को जानते या मानते हैं भगत सिंह ऐसे कभी नहीं थे। न ही वो ऐसा बनना चाहते थे। भगत सिंह ने कभी इस देश के युवा को बंदूक उठाने के लिए प्रेरित नहीं किया जब कि भगत सिंह तो चाहते थे कि इस देश का हर एक युवा कलम उठाए। पढ़े - लिखे और अपने अधिकारों के लिए संघर्ष करे। भगत सिंह खुद को नास्तिक बताते थे, इसका मतलब यह नहीं है कि वो ईश्वर को नहीं मानते थे।   लेकिन दुनियाँ को पाखंड और आडंबरो से बचाना चाहते थे। वह हमेशा बरा

धर्म को लेकर क्या थे कार्ल मार्क्स के विचार?

Image
कार्ल हेनरिक मार्क्स का जन्म 5 मई 1818 को जर्मनी के प्रुसिया में हुआ था। वे जर्मन दार्शनिक, राजनीतिक अर्थव्यवस्था के आलोचक, अर्थशास्त्री, इतिहासकार, समाजशास्त्री, राजनीतिक सिद्धांतकार, पत्रकार और समाजवादी क्रांतिकारी थे। कार्ल धर्म को एक बहुत खतरनाक नशा मानते थे। वह कहते थे। इंसान धर्म को बनाता है, धर्म इंसान को नहीं। दरअसल, धर्म इंसान की आत्म-व्याकुलता और आत्म-अनुभूति है, जिसने या तो अभी तक खुद को नहीं पाया है या फिर पा कर खुद को पुनः खो दिया है। लेकिन इंसान कोई अमूर्त वस्तु नहीं है, जो दुनिया के बाहर कहीं बैठा है। इंसान इंसानों, राज्य, समाज की दुनिया है। यह राज्य, यह समाज धर्म पैदा करता है, एक विकृत विश्व चेतना पैदा करता है, क्यों कि वे एक विकृत दुनिया हैं। धर्म इस दुनिया का समान्यीकृत सिद्धांत है, इसका विश्वकोशीय सारांश है, लोकप्रिय रूप में इसका तर्क है-  धर्म दमित प्राणी की आह है, एक बेरहम दुनिया का एहसास है, वैसे ही, जैसे यह गैर - आध्यात्मिक स्थितियों की प्रेरणा है। धर्म एक नशा है "यह लोगों की अफीम है।"  लोग धर्म के द्वारा उत्पन्न झूठी खुशी से छुटकारा पाए बिना स

साथियों के नाम भगत सिंह का आखिरी खत!

Image
                                                    22 मार्च, 1931 साथियों स्वाभाविक है कि जीने की इच्छा मुझमें भी होनी चाहिए, जिसे मैं छुपाना नहीं चाहता, लेकिन एक शर्त पर ज़िन्दा रह सकता हूँ कि मैं कैद या पाबंद होकर जीना नहीं चाहता। मेरा नाम हिन्दुस्तानी क्रांति का प्रतीक बन चुका है और क्रांतिकारी दल के आदर्शों व कुर्बानियों ने मुझे ऊँचा उठा दिया, इतना ऊँचा कि जीवित रहने की स्तिथि में इससे ऊँचा मैं हरगिज नहीं हो सकता। आज मेरी कमजोरियाँ जनता के सामने नहीं हैं। अगर मैं फाँसी से बच गया तो वे जाहिर हो जाएँगी और क्रांति का प्रतीक चिन्ह मद्धम पड़ जाएगा या सम्भवतः मिट ही जाए। लेकिन दिलेराना ढंग से हँसते-हँसते मेरे फाँसी पर चढ़ने की सूरत में हिन्दुस्तानी माताएँ अपने बच्चों के भगत सिंह बनने की आरज़ू किया करेंगी और देश के लिए कुर्बानी देनें वालों की तादाद इतनी बढ़ जाएगी कि क्रांति को रोकना साम्राज्यवाद या तमाम शैतानी शक्तियों के बूते की बात नहीं रहेगी। हाँ एक विचार आज भी मेरे मन में आता है कि देश और मानवता के लिए जो कुछ करने की हसरतें मेरे दिल में थीं, उनका हज़ारवां भाग भी पूरा नही

जब महात्मा गाँधी ने किया पाकिस्तान को 55 करोड़ रुपये दिलाने के लिए अनशन?

Image
जब भी भारत के राजनीतिक इतिहास की बात आती हैं आपने अक्सर सुना या पढ़ा होगा कि हमारे देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी नें 1948 में पाकिस्तान को 55 करोड़ रुपए दिलाने के लिए अनशन किया था। लेकिन यह कितना सच है यह जानने की कोशिश शायद आपने कभी नहीं की होगीं। क्योंकि इतना सुनने भर से कहीं ना कहीं आपके विचार इस बात से सहमत होने लगते हैं। क्योंकि आज की भारतीय राजनीति में राजनीतिक दलों ने अपने अपने फायदे के लिए महापुरुषों की छवि को धूमिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। उन्हें पता है कि अगर इतिहास को झूठलाया नहीं गया तो वो आज की राजनीति में अपनी जगह नहीं बना पाएंगे और इसीलिए महापुरुषों के योगदानों को भुला कर उनके बारे में भ्रामक भ्रांतियां फैलाई गई और उन्हें बदनाम करने की भरसक कोशिशें की गई। तो ऐसे ही एक मुद्दे पर आज बात करते हैं जिसमें गाँधी जी पर पाकिस्तान को 55 करोड़ रुपये दिलाने का आरोप है!  हिन्दुस्तान और पाकिस्तान के बँटवारे के कुछ समय बाद तक दोनों देशों का एक ही रिजर्व बैंक था। और सरकारी आंकड़ों के अनुसार आज़ादी के बाद उसमे कुल 400 करोड़ रुपये थे। हमारे यहां बँटवारे का मतलब

भीष्म पितामह के जन्म के बाद उनकी माँ गंगा अपने पति शान्तनु को छोड़कर क्यों चली गई।

Image
भीष्म पितामह के पिता महाराज शान्तनु का जन्म उनके दादा महाप्रतापी महाराज प्रतीप के बुढ़ापे मे हुआ था। इसीलिए महाराज प्रतीप ने शान्तनु के योग्य होते ही उन्हें अपना राजपाठ सौप दिया और वानप्रस्थ आश्रम में तपस्या करने चले गये। जाते जाते उन्होंने कहा कि बेटा एक स्वर्गीय सुन्दरी तुमसे विवाह करना चाहती है। वह कभी एकांत में तुम्हें मिलेगी। तुम उससे विवाह करना और उसकी इच्छा पूरी करना यही मेरी आज्ञा है। इसके बाद प्रतीप तपस्या करने जंगल में चले गए। महाराज शान्तनु बड़ी ही योग्यता से प्रजा का पालन कर रहे थे। उनके राज्य में कोई दुखी नहीं था। सारे दुखों का उपाय वे पहले ही कर लेते थे। वे स्वयं राज्य में जाकर सबके दुःख सुख का पता लगाया करते थे। एक दिन वे घूमते हुए गंगा जी के तट पर जा पहुँचे। उन्होंने देखा कि एक लक्ष्मी के समान तेज वाली स्वर्गीय सुंदरी वहाँ पर टहल रही है। महाराज शान्तनु ने ध्यान दिया कि वह स्त्री अनुरक्त दृष्टि से उनकी ही ओर देख रही है। उस स्त्री के हृदय का भाव जानकर शान्तनु ने पूछा -  देवी तुम कौन हो? देव हो या दानव, गंधर्व कन्या हो या नाग कन्या? मनुष्यों में तो तुम्हारे जैस

आखिर क्यों भीष्म पितामह की माँ गंगा ने अपने ही सात पुत्रों को मार डाला था?

Image
गंगा ने अपने सात पुत्रों को क्यों मारा?   एक बार की बात है, गंगा अपने कारण ब्रह्मा द्वारा महाभिशक़ को दिए गए श्राप के बारे में सोच रही थी कि तभी उन्होंने स्वर्ग से आठों वसुओं को उतरते देखा। देखते ही उन्होंने सोचा कि ऐसा क्या कारण आन पड़ा कि वसुओं को मृत्यु लोक में आना पड़ा। गंगा के मन में बड़ा कौतूहल हुआ। उन्होंने वसुओं से पूछा- वसुओं! स्वर्ग में सब कुशल तो है ना?  तुम सब एक साथ पृथ्वी पर क्यों जा रहे हो? वसुओं ने कहा - माता हम सब मृत्युलोक मे जाकर पैदा हो ऐसा हमे शाप मिला है। हमसे अपराध तो हुआ था लेकिन इतनी कड़ी सजा मिले इतना बड़ा नहीं हुआ था। एक दिन महर्षि वसिष्ठ गुप्त रूप से संध्या वंदन कर रहे थे, हमने उन्हें पहचाना नही और बिना प्रणाम किये ही आगे बढ़ गये। उन्होंने सोचा कि हमने जान बूझकर मर्यादा का उल्लंघन किया है, और उन्होंने हमे मनुष्य योनि मे जन्म लेने का शाप दे दिया। वे ब्रह्मवेत्ता महापुरुष है, उनकी वाणी कभी झूठी नहीं हो सकती। परंतु माता! हम किसी मनुष्य स्त्री के गर्भ से जन्म नहीं लेना चाहते हैं। अब हम आपकी शरण में है और आपसे प्रार्थना करते हैं कि आप हमे अपने गर्भ मे

2022?? 15 लाख! बुलेट ट्रेन! मल्टीनैशनल कंपनियां! विश्वगुरु! और जाने क्या-क्या??

मैं मोदी जी द्वारा दिए गए 15 लाख रुपये लेकर विश्वगुरु भारत का भ्रमण करने निकला। घर से निकलते ही बुलेट ट्रेन में बैठ कर स्मार्ट सिटी पहुंचा। जहाँ बड़ी बड़ी मल्टीनैशनल कंपनियो मे (2 करोड़ रोजगार प्रतिवर्ष के हिसाब से 6 साल में ) 12 करोड़ युवाओ को नौकरी करते देख दिल खुशी से झूम उठा। वहां से निकल कर मुझे मोदी जी द्वारा 5 साल तक विदेशों में घूम घूम कर भारत मे निवेश करने के लिए लाई गई बड़ी बड़ी मल्टीनैशनल कंपनियो के मालिकों से मिलने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। जिनसे मिलकर मेंने तू - तड़ाक मे बात की (जैसे मोदी जी अपने मित्र ओबामा जी से करते थे) पर उन्हें कुछ समझ नहीं आया क्यों कि वे हिंदी नहीं जानते है। पर भारत को दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाने के लिए मोदी जी के साथ साथ उनका भी अभिवादन किया। फिर मेंने बाजार मे जाकर देश की 10% के साथ बढ़ती GDP देखी। वहा से निकल कर मोदी सरकार द्वारा बनाए गए AIMS देखने गया। जहां जाकर गरीबो का फ्री में इलाज होते देख मैं अपने खुशी के आँसू रोक ना सका। वहां से निकला तो 40 रुपये लीटर पेट्रोल खरीद कर सब्ज़ी मंडी पहुंचा जहाँ 5 रुपये किलो प्याज़ खरीदे और अंत में मै

क्या है CAB और NRC?

Image
09 दिसंबर 2019 को सरकार की ओर से गृहमंत्री अमित शाह द्वारा सदन में CAB (citizenship ammendment bill) (नागरिकता संशोधन विधेयक) प्रस्तुत किया गया। जो 13 दिसंबर 2019 तक लोकसभा, राज्यसभा तथा राष्ट्रपति द्वारा पूर्ण बहुमत से पारित कर दिया गया। पहला सवाल :- पहले तो सिर्फ NRC ही करना चाहती थी सरकार, तो अब CAB लाने की जरुरत क्यों पड़ी? जवाब :- इसी साल सरकार ने असम में NRC लागू किया। असम की जनसंख्या लगभग 3 करोड़ 30 लाख है, जिसमें से लगभग 19 लाख लोग NRC की सूची में नहीं आए। जिसमें से लगभग 14 लाख हिन्दू तथा बाकी के 5 लाख मे मुस्लिम, सीख, जैन, बोद्ध आदि समुदाय के लोग है। जिसमें लगभग 1600 करोड़ का खर्च आया। अब सरकार के सामने चुनौती आई की 14 लाख हिन्दुओ को कैसे देश से निकाले। इसीलिए वर्तमान सरकार ने नेहरु सरकार द्वारा 1955 में बनाए गए CA (citizenship act) (नागरिकता अधिनियम) का सहारा लिया और CAA (citizenship ammendment act) लाया गया। (पाठकों को भ्रमित होने की अवश्यकता नहीं है CAA और CAB एक ही है क्यों कि कोई भी BILL पास होने के बाद ACT बन जाता है)  दूसरा सवाल :- क्या ह