2022?? 15 लाख! बुलेट ट्रेन! मल्टीनैशनल कंपनियां! विश्वगुरु! और जाने क्या-क्या??

मैं मोदी जी द्वारा दिए गए 15 लाख रुपये लेकर विश्वगुरु भारत का भ्रमण करने निकला। घर से निकलते ही बुलेट ट्रेन में बैठ कर स्मार्ट सिटी पहुंचा। जहाँ बड़ी बड़ी मल्टीनैशनल कंपनियो मे (2 करोड़ रोजगार प्रतिवर्ष के हिसाब से 6 साल में ) 12 करोड़ युवाओ को नौकरी करते देख दिल खुशी से झूम उठा। वहां से निकल कर मुझे मोदी जी द्वारा 5 साल तक विदेशों में घूम घूम कर भारत मे निवेश करने के लिए लाई गई बड़ी बड़ी मल्टीनैशनल कंपनियो के मालिकों से मिलने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। जिनसे मिलकर मेंने तू - तड़ाक मे बात की (जैसे मोदी जी अपने मित्र ओबामा जी से करते थे) पर उन्हें कुछ समझ नहीं आया क्यों कि वे हिंदी नहीं जानते है। पर भारत को दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाने के लिए मोदी जी के साथ साथ उनका भी अभिवादन किया। फिर मेंने बाजार मे जाकर देश की 10% के साथ बढ़ती GDP देखी। वहा से निकल कर मोदी सरकार द्वारा बनाए गए AIMS देखने गया। जहां जाकर गरीबो का फ्री में इलाज होते देख मैं अपने खुशी के आँसू रोक ना सका। वहां से निकला तो 40 रुपये लीटर पेट्रोल खरीद कर सब्ज़ी मंडी पहुंचा जहाँ 5 रुपये किलो प्याज़ खरीदे और अंत में मैं सर्व सुविधा युक्त शिक्षा संस्थानों को देखने पहुंचा। मोदी जी द्वारा बनाए गए उन बड़े बड़े महाविद्यालयों मे गरीबो के बच्चों को फ्री मे पढ़ते देख सर फ़क्र से ऊँचा हो गया। सिटी मे इतना सब कुछ देखने के बाद मे सांसदों के द्वारा गोद लिए गए आदर्श ग्रामों को देखने पहुंचा। जहां किसानो की दोगुनी आय देखी और दलितों एवं पिछड़ों को बराबर का अधिकार पाते देख मेरे मन में खुशी की लहर दौड़ गई। गांवों में खुशहाली देखने के बाद मैं सीमा पर खड़े जवानों से मिलने पहुंचा। जहाँ आधुनिक हथियारों से लैस सैनिकों को देख कर गर्व से छाती चौड़ी हो गई। बस सैनिकों के पास जुते अच्छे नहीं थे। और नोटबंदी के बाद आतंकवादियों की टूटी हुई कमर देखी। साउथ एशिया टेररीज्म पोर्टल की रिपोर्ट के अनुसार 1 जनवरी 2014 से लेकर 11 अप्रैल 2019 तक भारत में सिर्फ 942 बम विस्फोट ही हुए जिसमें सिर्फ 541 लोग ही मारे गए जबकि 1589 लोग ही घायल हुए हैं। इससे साफ़ दिखता है कि आतंकवादी गतिविधियां भी देश में बहुत कम हुई है। मोदी जी के अनुसार देश मे उनकी सरकार आने के बाद कोई आतंकवादी हमला नहीं हुआ है। और विदेशों में जमा काला धन वापस ले आया गया। नकली नोट बनना बंद हो गए। 2000 के नोट में चिप लगाई जाने के बाद से 2014 के मुकाबले काला धन मात्र 40% ही बढ़ा है। अब सीमा से वापस आते समय मैंने तिहाड़ जाने का फैसला किया वहा पहुंचकर मैंने देखा की सोनिया गांधी, राहुल गांधी और मनमोहन सिंह समेत कई बड़े बड़े नेता भ्रष्टाचार के जुर्म में जैल मे चक्की पीस रहे हैं। यह देख कर दिल को बड़ा सुकून मिला। फिर मेंने भारत का राजनीतिक मानचित्र देखा जिसमें मुझे काँग्रेस मुक्त भारत दिखाई दिया और देखते ही मेरा सर गर्व से ऊंचा हो गया। फिर मैं देश की न्याय पालिकाओं और सरकारी संस्थाओ और मीडिया को निष्पक्ष तरीके से काम करते हुए देख दंग रह गया। लौटते समय मोदी जी द्वारा बनाए गए 35 एयरपोर्ट मे से मैं 8 वे पर  गया। वहा मैं नेहरू जी से मिला और उन्हें बाताया की देखा 5 सालों में भारत मे कितना विकास हो गया है । आप तो 70 सालो तक देश को लूटते ही रहे थे। नेहरू के कोई जबाव ना देने पर मे वहां से आगे बढ़ गया। और घर पहुंचा।घर पहुँचते ही देखा कि विपक्ष ने CAA और NRC के नाम पर लोगों को भड़का दिया और देश में हिन्दू मुस्लिम का जहर घोलकर अराजकता फैलाने की कोशिश की।विपक्ष की इस गिरी हुई हरकत को देख कर बहुत बुरा लगा। लेकिन मोदी सरकार द्वारा सुशासन बनाये रखा गया और लोगों को समझा दिया गया है। यह देख कर मन एक बार फिर आनंदित हो उठा।आज मेंने महात्मा गाँधी के पिछड़े हुए भारत की जगह गोडसे का आधुनिक भारत देखा।

Comments

mostly read

धर्म को लेकर क्या थे कार्ल मार्क्स के विचार?

इंदिरा गाँधी के पति फिरोज़ गाँधी या खान का जीवन ?

क्या है CAB और NRC?

क्यों गए थे गाँधी जी दक्षिण अफ्रीका?